पर्यावरण बचाना है--सबको पेड़ लगाना है!!---धरती हरी भरी रहे हमारी--अब तो समझो जिम्मेदारी!! जल ही जीवन-वायू प्राण--इनके बिना है जग निष्प्राण!!### शार्ट एड्रेस "www.paryavaran.tk" से इस साईट पर आ सकते हैं

वन्य प्राणियों की रक्षा कीजिए--डॉ आभा पान्डे

>> सोमवार, 27 सितंबर 2010

आज मानव स्वभाव से ही स्वार्थी व लालची होता जा रहा है। आज इन्सान अपने सारे रिश्ते नातों को भूल कर आगे की ओर बढ रहा है उसकी ये भावना इन्सानों को तो छोड़िये मूक प्राणियों पर भी कहर बरपा रही है। भरत जो अपनी वन संपदा से ओत प्रोत था आज वह अपनी इस संपदा से धीरे धीरे वंचित होता जा रहा है हमारा वन्य प्राणियों के प्रति अत्याचार जो कभी राजाओं के आखेट के रुप में कभी शिकारीयों के रुप में आहत हुआ है। जो जंगल कभी शेर की दहाडों से गूजता था जिनकी गिनती करना संभव नही था उसी जंगल के राजा को आज हम अंगुलियों पर गिन रहे हैं। जरा सोचिये यदि वन का राजा नहीं रहा तो क्या वन की शोभा फीकी नही पड़ जायेगी यदि हम किसी को जीवन दे नहीं सकते तो हमें जीवन छीनने का क्या अधिकार । इसी विचारधारा को मन में उठने दीजिये हमारे यही विचारों से वन का राजा ही नही अन्य वन्य प्राणी भी हमें कृतज्ञता भरी नजरों से देखेगें। वन्य प्राणियों की रक्षा व पर्यावरण के लिये हमें वनों की भी रक्षा करनी होगी

रायपुर

4 टिप्पणियाँ:

ओशो रजनीश 27 सितंबर 2010 को 10:52 pm  

अति सुन्दर और ज्ञानवर्धक जानकारी ........ आभार

जाने काशी के बारे में और अपने विचार दे :-
काशी - हिन्दू तीर्थ या गहरी आस्था....

अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये

Swarajya karun 7 अक्तूबर 2010 को 8:46 am  

पर्यावरण बचाने के लिए वन्य-प्राणियों की रक्षा ज़रूरी है ,लेकिन यह तभी संभव है जब वनों की रक्षा हो. बहरहाल एक अच्छा विषय उठाया है आपने. बधाई और शुभकामनाएं.

tears n reflections 15 अक्तूबर 2010 को 6:43 pm  

Dear AbhaJi
Yes A highly noble Thought mam....Could you please elaborate more on how do we go about it ...
I agree to the wild life preservation completely...Afterall What are we without them....I myself once thought about the situation of animals and wrote a Post...Kindly have a look...
http://kitnedoorkitnepaas.blogspot.com/2010/09/blog-post.html
Yours Truly
Deependra Vikram

मोहन चक्रवैश्य 16 अक्तूबर 2010 को 12:33 pm  

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में आपके महत्वपूर्ण लेख जनमानस में वन्य जीवों के बचाव के साथ-साथ पर्यावरणीय संसाधनों के संतुलित उपयोग के प्रति जागरूकता प्रदान करते है.
आपके इस अनुपम प्रयास को सादर नमन करता हूँ......

धन्यवाद - - - -

एक टिप्पणी भेजें

हमारा पर्यावरण पर आपका स्वागत है।
आपकी सार्थक टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती हैं।

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP